अगर आप भी बेटी के भव‍िष्‍य के ल‍िए अभी से प्‍लान‍िंग कर रहे हैं तो सरकार की तरफ से चलाई जा रही तमाम योजनाओं में न‍िवेश कर सकते हैं। उनमें से एक  ‘सुकन्या समृद्धि योजना’ (SSY) केंद्र सरकार की एक योजना है.इसमें न‍िवेश करने पर  80C के तहत छूट भी म‍िलती है. आइए जानते हैं SSY में हाल में ही हुए 5 बड़े बदलावों के बारे  जो की निम्नलिखित हैं 

1-‘तीसरी’ बेटी का भी खुलेगा खाता

सरकार  की तरफ से शुरू की गई सुकन्या समृद्धि योजना में अभी तक दो बेट‍ियों के खाते पर ही 80C के तहत टैक्‍स छूट का फायदा म‍िलता था. तीसरी बेटी के जन्म होने की स्थिति में टैक्स छूट नहीं मिलती थी. लेक‍िन, अब नियमों में बदलाव किया गया है. अगर एक बेटी के बाद दो जुड़वां बेटियां का जन्म होता है  होती हैं तो उन दोनों के लिए भी खाता खोलने का प्रावधान किया गया है. मतलब Sukanya Samriddhi Yojana में एक साथ तीन बेट‍ियों के नाम से खाता खोलकर पैसा जमा किया जा सकता है  और उस पर टैक्स छूट क्लेम कर सकते हैं.  

2-बदला ब्‍याज का न‍ियम

‘सुकन्या समृद्धि योजना में सालाना न्‍यूनतम 250 रुपए जमा करना जरूरी है और एक साल में अध‍िकतम डेढ़ लाख रुपए जमा किए जा सकते हैं. लेकिन, अक्सर लोग न्‍यूनतम राश‍ि 250 रुपए जमा करना भूल जाते हैं. जिसके बाद सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट डिफॉल्ट कैटेगरी में चला जाता है और इस पर ब्याज का भुगतान भी रोक दिया जाता है. पेनाल्टी के साथ इस अकाउंट को दोबारा एक्टिवेट कराने की सुविधा है. लेकिन, अब नए न‍ियमों में अगर आप खाते को दोबारा एक्टिव नहीं कराने पर मैच्‍योरिटी तक अकाउंट में जमा राश‍ि पर ब्‍याज मिलता रहेगा. 

3-खाता ऑपरेट करने के नियम

अभी तक बेटी 10 की उम्र के बाद में खाते को ऑपरेट कर सकती थी. लेकिन बदले हुए नियमों के बाद अब 18 की उम्र से पहले बेट‍ियों को अपना खाता ऑपरेट करने की मंजूरी नहीं होगी. मतलब 18 साल तक अभिभावक या माता-प‍िता ही   इस खाते को ऑपरेट करेंगे. 18 की उम्र  होने पर बेटी को अकाउंट सौंप दिया जाएगा.

4-भुगतान किये गए ब्याज का  न‍ियम

मौजूदा नियमों में अकाउंट में अगर किसी कारणवश गलत ब्याज क्रेडिट होने पर उसे वापस ले लिया जा सकता  था. लेकिन, अब ऐसा नहीं होगा. बदले हुए नियमों में अगर ब्याज क्रेडिट होने के बाद उसे वापस लेने का प्रावधान हटा लिया गया है. मतलब एक बार ब्याज का भुगतान हो  गया तो दोबारा वापस नहीं लिया जा सकेगा. सुकन्या समृद्धि योजना के खाते में ब्याज हर वित्त वर्ष के आखिर में क्रेडिट किया जाएगा.

5-अकाउंट बंद होने के न‍ियम में बदलाव

सुकन्या समृद्धि योजना में बेटी की मौत या बेटी का पता बदलने पर अकाउंट को बंद किया जा सकता था. लेकिन, अब अकाउंट होल्डर की जानलेवा बीमारी होने की स्थिति और अभिभावक की मौत होने पर भी समय से पहले अकाउंट बंद क‍िया जा सकता है.

How to revive your dormant SSY and PPF accounts  अपने निष्क्रिय SSY और PPF खातों को कैसे  सक्रिय करें ?


4 Easy Steps To Transfer Your Sukanya Samriddhi Yojana Accounts  अपने सुकन्या समृद्धि योजना खातों को स्थानांतरित करने के लिए  4 आसान कदम

By ANKIT SACHAN

मेरा नाम अंकित सचान है और मूलतः मैं कानपुर उत्तर प्रदेश जिले के घाटमपुर तहसील से सम्बन्ध रखता हूँ मैंने B.tech Electrical Engineering की शिक्षा उत्तर प्रदेश के सरकारी Engineering कॉलेज (Bundelkhand Institute of Engineering & Technology Jhansi ) ली है तदुपरांत मैंने प्राइवेट सेक्टर को चुना और अपनी नौकरी शुरू की अब तक मैँने २ कंपनियों में नौकरी की है मैंने Ramky Enviro Engineers Ltd में 8 वर्ष तथा PI Industries में 2 साल से काम कर रहा हूँ

Leave a Reply

Your email address will not be published.