Indian Government आपको एक बार फिर Sovereign Gold Bond में निवेश करने का मौका दे रही है। Sovereign Gold Bond स्कीम 2022-23 की पहली किस्त खरीद के लिये 20 से 24, जून यानी 5 दिनों के लिए खुलेगी। इसके लिए issue price 5,091 रुपए प्रति ग्राम तय किया गया है। online अप्लाय करने और डिजिटल पेमेंट करने पर प्रति ग्राम 50 रुपए का डिस्काउंट मिलेगा। यानी, आपको 1 ग्राम सोने के लिए 5,041 रुपए देने होंगे।

Don’t miss out on the golden rush!

Sovereign Gold Bonds are a great way to invest for long-term gains.
There are many advantages of investing in them, but listed here are the top 6 for you.

Know More: https://t.co/toePwihkKR #GoldBond #AmritMahotsav #SBI pic.twitter.com/foIgfmxGnU

— State Bank of India (@TheOfficialSBI) June 19, 2022

1-RBI जारी करता है Sovereign Gold Bond

Sovereign Gold Bond एक सरकारी बॉन्ड होता है, जिसे RBI की तरफ से जारी किया जाता है। इसे Demat के रूप में परिवर्तित कराया जा सकता है। इसका मूल्य सोने के वजन में होता है। यदि bond पांच ग्राम सोने का है, तो पांच ग्राम सोने की जितनी कीमत होगी, उतनी ही bond की कीमत होगी। इसे खरीदने के लिए सेबी के अधिकृत ब्रोकर को इश्यू प्राइस का payment करना होता है। bond को बेचने के बाद पैसा निवेशक के खाते में जमा हो जाता है।

2-इश्यू प्राइस पर मिलता है 2.50% ब्याज

Sovereign Gold Bond में इश्यू प्राइस पर हर साल 2.50% का निश्चित ब्याज मिलता है। यह पैसा हर 6 महीने में आपके खाते में पहुंच जाता है। हालांकि, इस पर स्लैब के हिसाब से टैक्स चुकाना होगा।

3-शुद्धता और सुरक्षा की कोई चिंता नहीं

Sovereign Gold Bond में शुद्धता की चिंता करने की कोई जरूरत नहीं होती है। national Stock Exchange (NSE) के मुताबिक gold bond की कीमत इंडियन बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन (IBJA) द्वारा प्रकाशित 24 कैरेट शुद्धता वाले gold की कीमत से लिंक होती है। इसके साथ ही इसे demat के रूप में रखा जा सकता है, जो काफी सुरक्षित है और उस पर कोई खर्च भी नहीं होता है।
4-न्यूनतम और अधिकतम आकार
न्यूनतम निवेश एक ग्राम सोना होगा, जबकि सदस्यता की अधिकतम सीमा व्यक्ति के लिए 4 किलोग्राम,HUF(Hindu Undivided Family) के लिए 4 किलोग्राम और ट्रस्टों और समान संस्थाओं के लिए 20 किलोग्राम प्रति वित्तीय वर्ष (अप्रैल-मार्च) होगी। समय-समय पर सरकार इस संबंध में स्वघोषणा प्राप्त की जाएगी। वार्षिक सीलिंग में वित्तीय वर्ष के दौरान विभिन्न चरणों के तहत सब्सक्राइब किए गए SGB और सेकेंडरी मार्केट से खरीदे गए एसजीबी शामिल होंगे।

5-आठ  साल से पहले निकालने पर देना होगा टैक्स

Sovereign Gold Bond 8 साल के मैच्योरिटी पीरियड के बाद इससे होने वाले लाभ पर कोई टैक्स नहीं लगता। वहीं अगर आप 5 साल बाद अपना पैसा निकालते हैं, तो इससे होने वाले लाभ पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन (LTCG) के रूप में 20.80% टैक्स लगता है।

ऑफलाइन भी कर सकते हैं निवेश

RBI ने Sovereign Gold Bond में निवेश के लिए कई तरह के विकल्प दिए हैं। बैंक की शाखाओं, पोस्ट ऑफिस, स्टॉक एक्सचेंज और स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (SHCIL) के जरिए इसमें निवेश किया जा सकता है। निवेशक को एक आवेदन फॉर्म भरना होगा। इसके बाद आपके अकाउंट से पैसे कट जाएंगे और आपके डीमैट खाते में ये बॉन्ड ट्रांसफर कर दिए जाएंगे।

निवेश करने के लिए पैन होना अनिवार्य है। यह बॉन्ड सभी बैंकों, स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (SHCIL), मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंजों, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (NSE) और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज लिमिटेड (BSE) के माध्यम से बेचे जाएंगे।

6-इसमें निवेश करना कैसा रहेगा?

एक्सपर्ट्स के अनुसार बढ़ती महंगाई और शेयर मार्केट में गिरावट के चलते gold  में निवेश आपको फायदा दिला सकता है। इस साल के आखिर तक सोना 55 हजार तक जा सकता है। ऐसे में इस स्कीम में निवेश करना सही कदम साबित हो सकता है।

By ANKIT SACHAN

मेरा नाम अंकित सचान है और मूलतः मैं कानपुर उत्तर प्रदेश जिले के घाटमपुर तहसील से सम्बन्ध रखता हूँ मैंने B.tech Electrical Engineering की शिक्षा उत्तर प्रदेश के सरकारी Engineering कॉलेज (Bundelkhand Institute of Engineering & Technology Jhansi ) ली है तदुपरांत मैंने प्राइवेट सेक्टर को चुना और अपनी नौकरी शुरू की अब तक मैँने २ कंपनियों में नौकरी की है मैंने Ramky Enviro Engineers Ltd में 8 वर्ष तथा PI Industries में 2 साल से काम कर रहा हूँ

Leave a Reply

Your email address will not be published.